क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित घाट

राम घाट

Ramghat1क्षिप्रा नदी के किनारे स्नान के लिए कई घाट निर्मित हैं। श्रीराम घाट को राम घाट के नाम से भी जाना जाता है। यह सबसे प्राचीन स्नान घाट है, जिस पर कुम्भ मेले के दौरान श्रद्धालु स्नान करना अधिक प्रधानता देते हैं। यह हरसिद्धि मंदिर के समीप स्थित है। प्रत्येक बारहवें वर्ष में, कुम्भ मेले के दौरान शहर से लगे हुए घाटों का विस्तार हो जाता है और शुद्धता, स्वच्छता की देवी क्षिप्रा की हजारों श्रद्धालुओं द्वारा पूजा की जाती है।

 

 

त्रिवेणी घाट

tiveni-ghat1क्षिप्रा तट पर स्थित त्रिवेणी घाट का नवग्रह मन्दिर तीर्थयात्रियों के लिए आकर्षण का एक प्रमुख केन्द्र है। त्रिवेणी घाट पर ही क्षिप्रा-खान (खान नदी) का संगम है। इन्दौर के लोग खान नदी को विभिन्न नामों से जानते हैं। क्षिप्रा नदी के जल को स्वच्छ रखने के उद्देश्य से खान नदी के दूषित जल को इसमें मिलने नहीं दिया जाता है।

 

 

 

गऊ घाट

gowghatदेश के श्रद्धालुओं को एक साथ स्नान घाटों पर लाने के लिए सिंहस्थ महाकुम्भ एक प्रमुख आकर्षण है। सिंहस्थ महाकुम्भ के दौरान लाखों श्रद्धालु विभिन्न घाटों पर एकत्रित होते हैं। श्रीराम घाट और नरसिंह घाट उज्जैन के प्राचीन और पवित्र स्नान घाट हैं। धार्मिक महत्व के अलावा उज्जैन के घाट संध्या और प्रातः काल टहलने के लिए भी एक आकर्षक स्थल के रूप में जाने जाते हैं। यह घाट चिंतामन रोड पर वेधशाला के समीप स्थित है।

 

 

मंगल नाथ घाट

mangal-nath-ghat1यह घाट प्रसिद्ध मंगलनाथ मन्दिर के पुल के पास क्षिप्रा नदी के दायें एवं बायें किनारे पर स्थित है। सिंहस्थ महाकुम्भ पर्व एवं धार्मिक पवित्र नहान पर आने वाले श्रद्धालुओं के स्नान हेतु इस घाट का निर्माण किया गया है। यह तीनों घाट मंगलनाथ मन्दिर के निकट ही स्थित है।

 

 

 

 

दत्त अखाड़ा घाट

dantka-akhada1यह घाट उज्जैन बड़नगर मार्ग पर छोटी रपट के बायीं तरफ शिप्रा नदी के बांये किनारे पर स्थित है। सिंहस्थ महाकुंभ पर्व एवं धार्मिक पवित्र नहान पर आने वाले श्रद्धालुओं के स्नान हेतु घाट का निर्माण किया गया है। इस घाट पर पहुँचने के लिए उज्जैन बड़नगर मार्ग पर छोटी रपट के बायीं ओर से रास्ता जाता है।

 

 

 

 

चिन्तामण घाट

Prashanti-Dham-Ghatयह घाट उज्जैन चिन्तामण मार्ग पर स्थित सड़क के बड़े पुल के पास रेलवे के लालपुल के नीचे क्षिप्रा नदी के बाँये किनारे पर स्थित है। सिंहस्थ महाकुम्भ पर्व एवं धार्मिक पवित्र नहान पर आने वाले श्रद्धालुओं के स्नान हेतु घाट का निर्माण किया गया है। घाट पर पहुँचने हेतु उज्जैन चिन्तामण मार्ग पर बड़े पुल के पास से दायीं तरफ से सीमेण्ट कांक्रीट रास्ता जाता है जिसकी लम्बाई 50 मीटर है।

 

 

 

स्त्राेत : सिंहस्थ उज्जैन