इतिहास

भारत के दक्षिण-पूर्व किनारे का महत्त्वपूर्ण तीर्थक्षेत्र – रामेश्वरम् !

रामेश्वरम्, यह हिन्दुओंकी पवित्र चारधाम यात्रा में से दक्षिणधाम है। हिन्दुओंकी जीवनयात्रा की पूर्णता बद्रीनाथ, द्वारका, पुरी तथा रामेश्वरम् इन चार धामोंकी यात्रा के पश्चात ही होती है। रामेश्वरम्, यह तीर्थक्षेत्र भारतवर्ष के १२ प्रमुख ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह मंदिर भव्य है। इस के विस्तार एवं भव्यता के संदर्भ में तुलना करनेवाला अन्य कोई भी मंदिर भारत में नहीं है। Read more »

भक्तिमती शबरीमैया

रत्नगर्भा वसुुंधराका एक अंश इस देवभूमि भारतके, गर्भसे न जाने कितने अनमोल रत्नोंका उदय हुआ है । जीवनके प्रत्येक क्षेत्रमें उनके नाम और कार्यके बलपर युगो-युगोंसे इस भूमिकी पवित्रता अक्षुण्ण रही है । ऐसा ही एक भक्तिरत्न है, ‘शबरी’, जिसकी जीवनचर्या आज भी हमें हिन्दू धर्मकी महानताका, श्रीगुरुके चैतन्यमय वचनपर दृढ श्रद्धाका तथा भगवद्भक्तिका पाठ पढाती है । Read more »

1 2