श्रीलंका की हिन्दू संस्कृति का इतिहास !

रामायण में जिस भूभाग को लंका अथवा लंकापुरी कहा गया है, वह स्थान आज का श्रीलंका देश है । त्रेतायुग में श्रीमहाविष्णुजी ने श्रीरामावतार धारण किया तथा लंकापुरी जाकर रावणादि असुरों का नाश किया । इस स्थान पर युगों-युगों से हिन्दू संस्कृति ही थी । २३ सहस्र ३०० वर्ष पूर्व राजा अशोक की सुपुत्री संघमित्रा के कारण श्रीलंका में बौद्ध पंथ का प्रवेश हुआ । आज वहां के ७० प्रतिशत लोग बौद्ध हैं । ऐसा होते हुए भी श्रीलंका में श्रीराम, सीता तथा लक्ष्मण से संबंधित अनेक स्थान हैं । वाल्मिकी रामायण में महर्षि वाल्मिकी ने जो लिखा, उसके अनुसार ही आगे घटित हुआ, इसके श्रीलंका में अनेक प्रमाण मिलते हैं । श्रीलंका में श्रीराम, सीता, हनुमानजी, लक्ष्मण, रावण तथा मंदोदरी से संबंधित अनेक स्थान, तीर्थ, गुफाएं, पर्वत तथा मंदिर हैं । भक्त तथा कुछ आध्यात्मिक संस्थाआें द्वारा उनमें से ४७ स्थानों की जानकारी खोजी गई है । ‘इन सभी स्थानों की जानकारी मिले तथा संपूर्ण विश्‍व के हिन्दुआें को उसे बताया जाए’, इसके लिए महर्षि अध्यात्म विश्‍वविद्यालय की ओर से सद्गुुरु (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी के साथ ४ छात्र-साधकों ने १ मास (महिना)तक श्रीलंका की यात्रा की । ऐसा कहा जा सकता है कि यह यात्रा रामायण से संबंधित अध्ययनयात्रा थी । ये जानकारी यहां प्रस्तुत कर रहे है ।

सीतामाता के वास्तव्य से पवित्र श्रीलंका का ‘सीता कोटुवा’ स्थान !

वनवास की कालावधि में रावण द्वारा सीतामाता का अपहरण कर उन्हें लंका ले आने पर महारानी मंदोदरी के महल में रखा । गुरुलूपोथा गांव से डेढ कि.मी. अंदर अरण्य में महारानी मंदोदरी का महल है । स्थानीय लोग महारानी मंदोदरी के महल को ‘सीता कोटुवा’ कहते हैं । Read more »

श्रीलंका के एल्ला नगर का ‘रावण जलप्रपात’ तथा ‘रावण गुफा’

रावण द्वारा निर्मित इस गुफा के अंदर जानेपर तीव्र दबाव प्रतीत हुआ, मितली आने लगी और सिर में वेदना होने लगी । त्रेतायुग में रावण का राज्य था । इसका अर्थ इस घटना को अब लाखों वर्ष बीत गए; परंतु रावण द्वारा निर्मित प्रत्येक बातों में उसी प्रकार के तरंग प्रतीत होते हैं । Read more »

श्रीलंका का नगर ‘नुवारा एलिया’ में एक संत द्वारा स्थापित गायत्रीपीठ आश्रम !

‘नुवारा एलिया’ नगर के एक क्षेत्र में वर्ष १९७० में मुरुगेसू सिद्धर् नामक संत द्वरा स्थापित किया हुआ ‘गायत्रीपीठ’ नामक एक आध्यात्मिक आश्रम है । इस आश्रम के अंदर ‘श्रीलंकाधीश्‍वर’ नामक शिवजी का मंदिर तथा गायत्रीदेवी का मंदिर है । ऐसा कहा जाता है कि गायत्रीपीठवाली यह भूमि रावणपुत्र मेघनाद की तपश्‍चर्या भूमि है । Read more »

श्रीलंका में राम-रावण युद्ध का साक्षी रामबोडा तथा रावणबोडा पर्वत !

अशोक वाटिका के ३५ कि.मी. पहले हनुमानजी, जहां विश्राम के लिए रुके थे, वह स्थान है आज का रामबोडा पर्वत ! यहां हनुमानजी कुछ समय श्रीरामजी का स्मरण करते हुए ध्यान लगाए बैठे थे । रावण की सेना ने रामबोडा पर्वत के सामनेवाले पर्वत पर अपना शिविर लगाया । इसलिए उसे रावणबोडा पर्वत कहा जाता है । Read more »

श्रीलंका में सीतामाता द्वारा दी गई अग्निपरीक्षा का स्थान

वाल्मिकी रामायण में महर्षि वाल्मिकी ने जो लिखा, उसके अनुसार घटनाएं होने के श्रीलंका में अनेक प्रमाण हैं । सीतामाता दी गई अग्निपरीक्षा दिया गया स्थान, ऐसा ही एक स्थान है । यह स्थान जिस गांव में है, उस गांव का नाम है दिविरुंपोला ! Read more »

सीतामाता तथा हनुमानजी के पदस्पर्श से पवित्र – श्रीलंका की अशोक वाटिका !

नदीतट पर स्थित राम, लक्ष्मण तथा सीता मंदिर के पीछे घना अरण्य है । वहां पर स्थित अनेक वृक्षों में से सबसे विशेष वृक्ष है ‘अशोक वृक्ष’ ! केवल उसकी ओर देखते ही भाव जागृत करनेवाला यह अरण्य सीतामाता के चरणस्पर्श से पवित्र बनी ‘अशोक वाटिका’ है । अशोक वाटिका की यह विशेषता है कि वहां की मिट्टी काली और राख की भांति है । Read more »


facebook.com/HinduAdhiveshan
youtube.com/HinduJagruti