त्यौहार

श्रीरामनवमी

श्री विष्णुके सातवें अवतार श्रीरामके जन्म प्रीत्यर्थ श्री रामनवमी मनाते हैं । चैत्र शुक्ल नवमीको रामनवमी कहते हैं । इस वर्ष रामनवमी १३ अप्रैलको है । अनेक राममंदिरोंमें चैत्र शुक्ल प्रतिपदासे लेकर नौ दिनतक यह उत्सव मनाया जाता है । रामायणके पारायण, कथाकीर्तन तथा राममूर्तिको विविध शृंगार कर, यह उत्सव मनाया जाता है । Read more »

श्रीकृष्णजन्माष्टमी

हिंदुस्थानमें ही नहीं, संपूर्ण विश्वमें श्रीकृष्णजन्माष्टमी अर्थात श्रीकृष्ण जयंती अत्यंत धूमधामसे मनाई जाती है । श्रीकृष्णजन्माष्टमी त्योहार, व्रत तथा उत्सव भी है । गोकुल, मथुरा, वृंदावन, द्वारका, पुरी ये सभी श्रीकृष्णकी उपासनासंबंधी पवित्र स्थल हैं, जहां यह उत्सव विशेष रूपसे मनाते हैं । Read more »

श्री गणेश चतुर्थी

श्री गणेश चतुर्थी पर तथा श्री गणेशोत्सवकाल में नित्यकी तुलना में पृथ्वीपर गणेशतत्त्व १ सहस्र गुना अधिक कार्यरत रहता है । इस काल में की गई श्री गणेशोपासना से गणेशतत्त्व का लाभ अधिक होता है । Read more »

श्री दत्तजयंती

मार्गशीर्ष पूर्णिमाके दिन मृग नक्षत्रपर सायंकाल भगवान दत्तात्रेयका जन्म हुआ, इसलिए इस दिन भगवान दत्तात्रेयका जन्मोत्सव सर्व दत्तक्षेत्रोंमें मनाया जाता है । दत्तजयंतीपर दत्ततत्त्व पृथ्वीपर सदाकी तुलनामें १००० गुना कार्यरत रहता है । इस दिन दत्तकी भक्तिभावसे नामजपादि उपासना करनेपर दत्ततत्त्वका अधिकाधिक लाभ मिलनेमें सहायता होती है । Read more »

कोजागरी पूर्णिमा

आश्विन पूर्णिमा अर्थात कोजागरी पूर्णिमा । श्रीमद्भागवतमें उल्लेख है कि इस दिन भगवान श्रीकृष्णने व्रजमंडलमें रासोत्सव मनाया । इस व्रतके रात्रिकालमें लक्ष्मी एवं ऐरावतपर बैठे इंद्रकी पूजा की जाती है । शरद ऋतुकी र्पूिणमाकी श्वेत चांदनीमें चंद्रको गाढे किए गए दूधका नैवेद्य चढाते हैं । Read more »

1 2