लेख

विधानसभा चुनाव २०१७ में विजय के निहितार्थ : प्रो. रामेश्वर मिश्र पंकज

नरेन्द्र मोदी और अमित शाह को हिन्दुओं के क्षोभ और असन्तोष की अचानक भनक लग गयी। उनके सम्पूर्ण आचरण में हिन्दुत्व की कोई छाप नहीं है, परन्तु एक कुशल राजनेता के नाते उन्होंने हिन्दुओं का मन छू लिया है। इसी से उन्हें हिन्दू समाज का आषीर्वाद मिल गया है। इसमें मोदी लहर जैसी कोई बात नहीं है।

Read More »

पश्चिम बंगाल में हिन्दुओं के प्रति बढ़ती असहिष्णुता . . .

दादरी में अखलाक की हत्या के बाद राजनेताओं से लेकर अभिनेताओं और साहित्यकारों व बुद्धिजीवियों को देश असुरक्षित लगने लगा, पुरस्कार वापसी की मुहिम शुरू हो गई परन्तु प. बंगाल की दु:खद और चिंताजनक घटनाक्रमों पर सन्नाटा फैला हुआ है, क्यों ?

Read More »

मिडिया का ‘हिन्दू’विरोधी अजेंडा !

भारत में न्यूज चैनलों के नामपर २४ घंटे समाचार देनेवाले चैनलों का वास्तविक रूप है हिन्दू धर्म में व्याप्त (कथित) कामियों को बढा-चढाकर प्रस्तुत करना और हिन्दुत्व हेतु कार्य करनेवाले व्यक्ति एवं संगठनों को अपकीर्त करना।

Read More »

राजा-महाराजाओं के ऐतिहासिक भवन एवं राजमहलों का उत्तम प्रकार से जतन करनेवाला राजस्थान !

छत्रपति शिवाजी महाराज के आदर्श को सामने रखकर महाराष्ट्र में राजनीति तो चलती ही रहती है; परंतु उनके इतिहास के साक्षी बने ‘सिंधुदुर्ग’ इस सागरी किले की तथा उसमें स्थित विश्‍व के एकमात्र शिवराजेश्‍वर मंदिर की हो रही ‘उपेक्षा’ को, दुर्भाग्यपूर्ण मानना पडेगा !

Read More »

साम्यवादियों के विरोध को कुचल कर ‘जेएनयू’ में हिन्दुत्वनिष्ठोंद्वारा ‘एक भारत अभियान – कश्मीर की ओर’ इस कार्यक्रम का सफल आयोजन !

‘जेएनयू’ में ‘एक भारत अभियान . . . ’ के अंतर्गत ‘अभाविप’द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित कर वहां ‘अखंड भारत’ की घोषणाओं से उसका शुद्धिकरण करने का अवसर प्राप्त हुआ था। इस कार्यक्रम की सफलता हेतु जो संघर्ष करना पडा, उसकी जानकारी इस लेख में प्रस्तुत कर रहे है . . .

Read More »

बांग्लादेश : हिन्दुओं के लिए असुरक्षित बना इस्लामी राष्ट्र !

१ से ३ जनवरी २०१७ की अवधि में सनातन की सद्गुरु (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी ने बांग्लादेश का भ्रमण कया। इन ३ दिवसीय बांग्लादेश भ्रमण से वहां पर स्थित हिन्दुओं के संदर्भ में प्राप्त अनुभव, भीषण ही थे, आप कल्पना ही नहीं कर सकते !

Read More »

कौन थी रानी पद्मावती ?, जानिए उनका सच्चा इतिहास !

दैनिक भास्कर ने रानी पद्मिनी का अस्तित्व होने के प्रमाण उन्हीं के शहर चित्तौड़गढ़ से जुटाएं। इतिहासकारों की मदद से उन ऐतिहासिक ग्रंथों और किताबों को भी खंगाला, जिनमें पद्मिनी का उल्लेख है।

Read More »

यह हैं भारत के सबसे बडे ईसाई राज्य !

धर्मांतरण के कारण स्वातंत्र्य पूर्व कालावधी में केवल २०० ईसाई होनेवाली नागभूमि (नागालँड) अब बन गया देश का सबसे बड़ा ईसाई राज्य ! अब वो, पुरे विश्व के बाप्टिस्टों का एकमात्र प्रमुख राज्य इस रूप में प्रसिद्ध है।

Read More »

असम में बांग्लादेशी ‘घुसपैठ’ – एक भीषण वास्तव !

स्वातंत्र्य पूर्व में, हिन्दूबहुल होनेवाला असम स्वतंत्रता के पश्चात बांग्लादेशी मुसलमान घुसपैठियोंद्वारा आक्रमण के कारण तथा उन्होंने ही वहां हिंसाचार एवं दंगें करा कर स्थानीय हिन्दुओं को निर्वासित होने हेतु विवश करने के कारण अब मुसलमानबहुल हुआ है !

Read More »

गणतंत्र दिवस एवं भारत की दुःस्थिती !

वर्ष के बारह के बारह मास देश पर आतंकवाद की तलवार लटक रही है, फिर भी उसको नष्ट न करनेवाला साथ ही जनता को आतंक के साये में गणतंत्रदिवस मनाने पर विवश करनेवाला विश्व में एकमात्र देश ‘भारत’ एवं उसके ‘धर्मनिरपेक्ष राजनेता’ !

Read More »
1 2 3 5