‘हिन्दू राष्ट्र’ शब्द का विरोध करनेवालों से निम्नांकित प्रश्‍न करें !

अ. ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित कर सर्व जाति-पन्थों का परमकल्याण साधा जा सकता है, यह छत्रपति शिवाजी महाराज ने सिद्ध कर दिखाया है । अतः यदि ऐसा परिवर्तन हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के कारण होता होगा, तो उसमें कोई आपत्तिजनक बात नहीं है ।

आ. पोप जॉन पॉल (द्वितीय) १९९९ में भारत की यात्रा पर आए थे । उस समय उन्होंने कहा था कि ‘सम्पूर्ण भारत को ईसाई बनाना है ।’ इस वक्तव्य को आजतक किसी ने असंवैधानिक क्यों नहीं माना ?

इ. अत्यंत विकसित और लोकतान्त्रिक देश होने पर भी इंग्लैण्ड एक ‘ईसाई’ राष्ट्र हो सकता है; तब ८० तिशत हिन्दू जनसंख्यावाला भारत देश ‘हिन्दू राष्ट्र’ क्यों नहीं बन सकता ?

ई. पाकिस्तान और बांग्लादेश के संविधान में ‘इस्लामिक रिपब्लिक’ लिखा है; तब भारत के संविधान में, ‘हिन्दू गणराज्य’ शब्द क्यों नहीं लिखा जा सकता ? जब इस्लामी राष्ट्रों में हिन्दू रह सकते हैं; तो ‘हिन्दू राष्ट्र में मुसलमान और ईसाई नहीं रह सकते, ऐसा कभी हो सकता’ है क्या ?

उ. स्वाधीनता के समय भारत में रहनेवाले तत्कालीन मुसलमानों ने अपने लिए धर्म पर आधारित पाकिस्तान नामक इस्लामी राष्ट्र मांगा था । उसके अनुसार शेष भारत हिन्दुआें का ‘हिन्दू राष्ट्र’ ही होना चाहिए था । हिन्दुआें द्वारा हिन्दू राष्ट्र की स्वाभाविक मांग, अपराध कैसे हो सकती है ?

ऊ. कल यदि ‘आइएसआइएस’ के आतंकवादी भारत पर आक्रमण कर इसे ‘इस्लामिक राष्ट्र’ घोषित कर दें, तो हिन्दू कहां जाएंगे ? संसार में हिन्दुआें का एक भी देश नहीं है !

भारत में ‘हिन्दू राष्ट्र’ की स्थापना का विरोध करनेवालों से कठोर शब्दों में पूछिए कि आप को निर्दोष लोगों के गले काटनेवाला, महिलाआें का सामूहिक बलात्कार करनेवाला तथा महिलाआें को बिक्री की वस्तु माननेवाला आसुरी ‘इस्लामी स्टेट’ चाहिए अथवा पृथ्वी को ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ अर्थात ‘पूरे विश्‍व को एक परिवार’ माननेवाला और ‘सर्वेऽत्र सुखिनः सन्तु सर्वे सन्तु निरामयाः ।’ अर्थात ‘इस विश्‍व के सब लोग सुखी और निरोगी रहें’, ऐसी प्रार्थना करनेवाला हिन्दुआें का ‘हिन्दू स्टेट’ अर्थात ‘हिन्दू राष्ट्र’ चाहिए ?

संदर्भ : सनातन का ग्रंथ, ‘हिन्दू राष्ट्रकी स्थापनाकी दिशा


Watch Live : Hindujagruti.org/hindi/mandir-nyaas-parishad