भक्तवत्सल पांडुरंग

बालमित्रो, पांडुरंग के परमभक्त संत तुकाराम निरंतर पांडुरंग के नाम में तल्लीन रहते थे । उनके घर में उनके पिताजी का श्राद्ध था । श्राद्ध का अर्थ है मृत हुए व्यक्ति की पुण्यतिथि । Read more »

महान विठ्ठलभक्त संत सेनाजी

बच्चों, महाराष्ट्रकी संत शृंखलामें मध्यप्रदेश प्रांतके संत सेना महाराजजी भक्तिमेंअद्वितीय स्थान रखते हैं । उनका जन्म मध्यप्रदेशके बांधवगड संस्थानमें हुआ । वेपंढरपुरके एक महान वारकरी संत थे । Read more »

संतों की सर्वज्ञता

बच्चों, संत ईश्वर का सगुण रूप होते हैं । इसलिए ईश्वर के सभी गुण उनमें दिखाई देते हैं । संतोंपर श्रद्धा होनेवाले भक्तों को इसकी प्रचीती अनेक बार आती है; परंतु कुछ लोगों को इसपर विश्वास नहीं रहता । Read more »

बचपन से ही अलौकिक तत्त्व के स्वामी (आद्यगुरु) शंकराचार्य

बालमित्रों, भगवान शंकराचार्य भारतवर्ष की एक दिव्य विभूति हैं । उनकी कुशाग्र बुद्धि को दर्शानेवाली एक घटना है । सात वर्ष की आयु में ही शंकर के प्रकांड पांडित्य तथा ज्ञानसामथ्र्य की कीर्ति सर्व ओर पैâलने लगी । Read more »