अभ्यास की पद्धति कैसे विकसित करेंगे ?

वर्तमान समय में अभ्यास की तकनीक लडकों एवं अभिभावकों को ज्ञात होना आवश्यक है । इस लेख से अभ्यास की आसान तकनीकी कैसे विकसित करे, यह देखेंगे । Read more »

अभ्यास में मन एकाग्र करने के लिए क्या करें ?

अभ्यास करते समय मन न लगना यह बहुतसे विद्यार्थीयों का प्रश्न रहना है । प्रस्तुत लेखसे अभ्यास में एकाग्रता लाने के लिए क्या कर सकते है यह जानकारी दी है । Read more »

रात्रि में अधिक समय जागकर अभ्यास करने की अपेक्षा प्रात: शीघ्र उठकर अभ्यास करना उत्तम !

प्रात: शीघ्र उठकर अभ्यास करने से कौन से लाभ होते है यह प्रस्तुत लेख से हम देखेंगे । Read more »

परीक्षा के लिए जाते समय तथा उत्तर-पुस्तिका में लिखते समय ध्यान देने योग्य बातें

परीक्षा की तनावपूर्ण स्थिति में साधारण से साधारण बातों में भी आपसे अनजाने में चूक हो सकती है । आइए, उन चूकों से कैंसे बचें, इस विषय का लेख पढें ! Read more »

विद्यार्थियो, केवल परीक्षार्थी न बनें, तो वास्तव में विद्यार्थी बनने का प्रयास करें !

आजकल अधिकांश विद्यार्थी एक कक्षा से दूसरी कक्षा में जाने को ही अध्ययन समझते हैं । उनके लिए यही अध्ययन की परिभाषा है । इसलिए बच्चे अज्ञानवश विद्यार्थी बनने के स्थानपर परीक्षार्थी बनते जा रहे हैं । Read more »

अध्ययन के लिए बैठने के स्थलपर देवताओं के चित्र रखें !

अध्ययन करते समय देवताओं के चित्र रखने से तथा प्रार्थना करने से क्या लाभ होते है इस संबंधी विस्तृत जानकारी प्रस्तुत लेख मे हम देखेंगे । Read more »

परीक्षा के लिए निकलने से लेकर उत्तर पुस्तिका पूर्ण लिखने तक बरतने योग्य सावधानी !

परीक्षा के लिए जाते समय आसन क्रमांक (सीट क्रमांक), अतिरिक्त उत्तर-पुस्तिकाएं, पर्यवेक्षकों के हस्ताक्षर ऐसी अनेक बातों का आपको सामना करना पडता है ।इस तनाव के कारण साधारण लगनेवाली बातों में भी आपसे चूक (गलतियां) हो सकती हैं । इन चूकों से बचने हेतु आगे कुछ सूत्र दे रहे हैं । Read more »

प्रत्यक्ष प्रश्नपत्र हल करना

विद्यार्थीयों को परीक्षा मे प्रश्नपत्र मिलने के बाद उसपर कैसे विचार करना चाहिए, उत्तर लिखते समय कौनसी सावधानिया रखनी चाहिए, आदी विषय मे संक्षिप्त जानकारी इस लेख मे दी गर्इ है । Read more »

निराशा अथवा परीक्षा में असफल होने पर आत्महत्या का विचार करना, मूर्खता है!

कुछ वर्षों पूर्व माध्यमिक अथवा महाविद्यालयीन परीक्षाओंके परिणाम घोषित होनेपर असफल द्यार्थियोंद्वारा आत्महत्याके गिने-चुने समाचार सुननेको मिलते थे । Read more »