लक्ष्मण द्वारा शूर्पणखा का वध ! 

हमे पता है कि प्रभु श्रीराम विष्‍णु के अवतार और मर्यादा पुरुषोत्तम थे । उनके अवतार काल मे उन्‍होंने अनेक राक्षसों का वध किया । श्रीराम और उनके भाई लक्ष्मण ने शूर्पणखा नामक राक्षसी का वध किया । अब हम यह कथा सुनेंगे । Read more »

अनंत चतुर्दशी की कथा !

आप कौरवों तथा पांडवों की कथा तो जानते ही हैं । पांडवों के बडे भाई युधिष्‍ठिर थे । वह इन्‍द्रप्रस्‍थ के राजा थे । युधिष्‍ठिर ने वहां एक ऐसा महल बनवाया था जो कि बहुत ही सुंदर और अद्भुत था । उस महल की विषेशता यह थी कि उसमें जल और स्‍थल में अंतर ही नहीं दिखाई देता था । जल के स्‍थानपर स्‍थल और स्‍थल के स्‍थानपर जल के जैसा भ्रम उत्‍पन्‍न होता था । Read more »

भगवान श्रीकृष्‍णजी की कृपा ! 

भगवान श्रीकृष्‍ण का एक बहुत धनवान भक्‍त था; परंतु वह पैरों में अत्‍यधिक पीडा होने के कारण चल नहीं पाता था । उसे एक स्‍थान से दूसरे स्‍थान पर जाने के लिए उठाकर ले जाना पडता था । उसी ग्राम में भगवान श्रीकृष्‍ण का एक और बहुत गरीब भक्‍त था और उसी मंदिर में वह अपनी पुत्री के विवाह के लिए पूर्ण श्रद्धा से प्रार्थना कर रहा था । Read more »

कुबेर का अहंकार ! 

क्‍या आप जानते हैं कि, कुबेर कौन थे ? कुबेर रावण के भाई थे । कुबेर तीनों लोकों में सबसे धनवान हैं । अभी भी किसी धनवान व्‍यक्‍ति को समाज के लोग कहते हैं कि, उसके पास तो कुबेर का खजाना है ।

एक दिन कुबेर के मन में विचार आया कि उनके पास इतनी सारी संपत्ति है, परन्‍तु बहुत ही कम लोगों को इसकी जानकारी है । इसलिए उन्‍होंने अपनी संपत्ति का प्रदर्शन करने के लिए एक भव्‍य भोज का आयोजन किया । अर्थात उन्‍हें अपनी संपत्ति का अहंकार हो गया था । Read more »

श्रीकृष्‍णजी की बांसुरी !

आज भगवान श्रीकृष्‍ण की बांसुरी के उत्‍पन्‍न होने की एक सुन्‍दर कहानी सुनते हैं । हम सब जानते हैं कि भगवान श्रीकृष्‍ण के हाथ में सदैव बांसुरी रहती है । बांसुरी को मुरली भी कहते हैं । भगवान श्रीकृष्‍ण के हाथ में मुरली होने के कारण उन्‍हें ‘मुरलीधर’ भी कहा जाता है । Read more »

रानी सत्यभामा, सुदर्शन चक्र और गरूड का गर्वहरण !

एक बार क्या हुआ कि, द्वारका में भगवान श्रीकृष्ण रानी सत्यभामा के साथ सिंहासन पर विराजमान थे । उनके निकट ही गरुड और सुदर्शन चक्र भी बैठे हुए थे । तीनों के चेहरे पर दिव्य तेज झलक रहा था । बातों ही बातों में रानी सत्यभामा ने श्रीकृष्ण से पूछा, ‘हे प्रभु ! आपने त्रेतायुग में प्रभी श्रीराम के रूप में अवतार लिया था, देवी सीता आपकी पत्नी थीं । क्या वह मुझसे भी अधिक सुंदर थीं ?’ Read more »

राजा मोरध्वज की कृष्णभक्ति !

महाभारत का युद्ध समाप्त होने के बाद अर्जुन को यह भ्रम हो गया की, वह श्रीकृष्ण के सर्वश्रेष्ठ भक्त हैं । अर्जुन सोचते थे की कन्हैया ने मेरा रथ चलाया, युद्ध के समय वे मेरे साथ रहे, इसका अर्थ है मैं ही भगवान का सर्वश्रेष्ठ भक्त हूं । अर्जुन यह भूल गए थे की वे तो केवल भगवान के धर्म संस्थापना का माध्यम थे । अर्जुन के मन की बात जानकर भगवान श्रीकृष्णजी ने उनका अहंकार तोडने का निश्‍चय किया । Read more »

जगद्गुरु भगवान श्रीकृष्णजी की गुरुदक्षिणा !

छोटी आयु में ही श्रीकृष्णजी और बलराम को शिक्षा प्राप्त करने के लिए उज्जयिनी नगरी में सांदीपनी ऋषि के आश्रम में भेजा गया । शिक्षा पूरी होने के बाद श्रीकृष्ण और बलराम अपने गुरु सांदीपनी ऋषि को विनम्रता से वंदन किया और कहा, ‘‘हे गुरुवर, आपने हमें अमूल्य ज्ञान दिया है । हम आपके चरणों में गुरुदक्षिणा अर्पण करना चाहते हैं ।’’ Read more »

देवताओं की शक्‍तिद्वारा दुर्गादेवी की निर्मिती !

मां दुर्गा की निर्मिती अनेक देवताओं से हुई है । उनकी देह का प्रत्‍येक अवयव एक-एक देवता की शक्‍ति से बना है । इस देवी की निर्मिती कैसे हुई यह कथा आज हम सुनेंगे । Read more »