शिक्षा कैसी हो ?

युवकों को अनिवार्यत: सैन्य प्रशिक्षण, उसी प्रकार संत, देशभक्त एवं क्रांतिकारियों की कथाएं अभ्यास हेतु दिए जाने से उनमें देश के लिए जीने एवं मरने की प्रेरणा मिलेगी । Read more »

प्राणार्पण कर ग्रंथरूपी राष्ट्रीय अस्मिता की रक्षा करनेवाले भारतीय !

छठवे शतक में चीनी यात्री हुसेन त्संग धर्मभूमि भारत का दर्शन करने
गैबी का मरुस्थल पार कर भारत आया । बौद्ध तीर्थक्षेत्रों का भ्रमण करते करते
बिहार के नालंदा विश्वविद्यालय में आकर कुछ वर्ष उन्होंनें भारतीय परंपरा,
समाज एवं कला इत्यादिका अध्ययन किया । Read more »

गुरुकुल रूपी धर्मशिक्षण पद्धती

हमें अपनी प्राचीन गुरुकुल शिक्षण व्यवस्था भारत में लाने के लिए कटिबद्ध होकर, आनेवाली पीढी के लिए चैतन्य और ईश्‍वरी कृपा का आनंद अनुभव करने के लिए सिद्ध हो जाए | Read more »

प्राचीन काल के भारत का शिक्षा वैभव !

भारत में अंग्रेजों का शासन स्थापित करने के उद्देश्य से सर थॉमस मूनरो नामक अंग्रेज अधिकारी ने तत्कालिन भारतीय शिक्षाप्रणाली का गहन सर्वेक्षण किया । इस सर्वेक्षण से प्राचीन काल के भारतीय शिक्षाप्रणाली का वैभव स्पष्ट होता है । Read more »

गुरुकुल शिक्षाप्रणाली

आपने अनेक बार भारत की प्राचीन गुरुकुल पद्धति के विषय में सुना होगा । इस शिक्षापद्धति में गुरुके घर जाकर शिक्षा प्राप्त करना, यही अर्थ आपको ज्ञात है । Read more »

आनन्ददायी गुरुकुल शिक्षणपद्धति भारत में लाने हेतु कटिबद्ध हो जाए !

पूर्वकाल में ऋषीमुनियों ने अपने आश्रम में विद्यार्थियों को सभी दृष्टिसे सामर्थ्यवान करनेवाली शिक्षा प्रदान की । उसेही गुरुकुल शिक्षा कहते है । Read more »

शिक्षकों का उत्तरदायित्त्व !

सभी प्राणियों में एक ही ईश्वर वास करते है, यह भावना दृढ करना ही शिक्षक का खरा धर्म है । इसे विषय मे विस्तृत जानकारी प्रस्तुत लेख में दी है । Read more »