दीपावली

दीपावली अर्थात दीप + आवली । इस दिन सर्वत्र पंक्तिबद्ध दीपक लगाए जाते हैं । दीपावली आनंदी जीवन का प्रारंभ । हम जिस पद्धति से दीपावली मनाते हैं, उससे अन्यों को आनंद हो, ऐसी प्रत्येक कृति करना, यही खरी दीपावली है ! Read more »

दीपावली के निमित्त से सात्त्विक रंगोलियां !

कृष्णतत्त्व की रंगोलि : १३ ते १७ बिंदु लक्ष्मीतत्त्व की रंगोलि : ११ बिंदु ११ रेखाएं संदर्भ : सनातन-निर्मित लघुग्रंथ, ‘सात्त्विकरंगोलियां’

दीपावली में की जानेवाली सात्त्विक एवं धर्माभिमान जागृत करनेवाली कृतियां

मित्रों, दीपावली का त्यौहार मौज मस्ती करने के लिए न होकर अपनी धर्म एवं संस्कृति की रक्षा करने के लिए तथा अन्यों को आनंद देने के लिए है । Read more »

पटाखे जैसे विकृत प्रथा को नष्ट करना ही वास्तव में सच्ची एवं खरी दीपावली !

दीपावली में हम देवताओं के छायाचित्रवाले पटाखे फोडते हैं । जिस समय हम पटाखे फोडते हैं, उस समय उस छायाचित्र के टुकडे होते हैं, अर्थात हम उस देवता का अनादर ही करते हैं । इसे रोकना यही खरी दीपावली है । Read more »