ईश्वर के नाम में ही खरा सुख

बालको, यदि मन को सन्तुष्ट रखना है, तो मन को नामपर केन्द्रित करें । चिन्ता करने से किसी प्रश्न का हल नहीं निकलता । Read more »

शिक्षा से निम्न बातें साध्य होने पर ही उसे खरी शिक्षा कह सकते हैं !

शिक्षा का मुख्य उद्देश्य विद्यार्जन करना है । ‘सा विद्या या विमुक्तये ।’ अपने दुःख समाप्त कर निरंतर आनन्द प्राप्त करने का ज्ञान जिस से प्राप्त होता है, उसे ही विद्या कहना चाहिए । Read more »

मित्रो, आपका आदर्श कौन हो ?

राष्ट्रद्रोह करनेवालों को अपना आदर्श मानना, उनके राष्ट्रद्रोही कृत्यों का समर्थन करने समान है । इसिलिए हमे भक्त प्रहलाद, बालक ध्रुव, संत ज्ञानेश्वर आदि थोर विभूतीयों का आदर्श रखकर आचरण करना चाहिए । Read more »

समय का व्यवस्थापन

समय का व्यवस्थापन, अर्थात स्वयं का व्यवस्थापन । इससे आपकी कार्यक्षमता बढती है ! समय की योजना बनाते समय आगे निम्नांकित बातोंपर ध्यान देना चाहिए । Read more »

वाचन करते समय अपने नेत्रों के स्वास्थ्य का ध्यान कैसे रखें ?

‘पढोगे तो बचोगे’ ये कहावत आपने सुनी ही होगी ।पढते समय आगे दी गई बाते ध्यान में रखने छोटी-छोटी बीमारियां टाल सकते हैं। पढते समय ध्यान कैसे रखें । Read more »

बच्चो, नियोजन कुशलता सीखें एवं अपना जीवन आनंदमय बनाएं !

‘नियोजन का महत्त्व समझने हेतु उदाहरण के रूप में हम श्याम एवं राम के अनुक्रम से नियोजन का अभाव तथा सुयोग्य नियोजन के कारण उसका परिणाम क्या हुआ, यह देखेंगे । Read more »