रात में शीघ्र सोकर सवेरे शीघ्र उठें !

धर्मशास्त्र में कहा गया है कि प्रत्येक को प्रात: सूर्योदय के पूर्व उठना चाहिए; परंतु आजकल अनेक बच्चे रात को पढाई करते रहते हैं अथवा दूरचित्रवाणीपर धारावाहिक अथवा चलचित्र देखते रहते हैं । इसलिए रात को देरसे सोते हैं और प्रात: ८-९ बजे उठते हैं । जो आरोग्य के लिए हानिकारक है। कहा जाता है, ‘शीघ्र सोए, शीघ्र उठे तो आयु-स्वास्थ्य एवं धनसंपत्ति मिले ।’ अर्थात्, जो शीघ्र सोकर शीघ्र उठता है, वह दीर्घायु एवं अच्छा स्वास्थ्य प्राप्त कर धनवान बनता है ।

रात में जागरण करनेसे होनेवाली हानि

जागरण करने से उष्णता के विकार होते हैं एवं आंखें भी प्रभावित होती हैं ।

प्रात: शीघ्र (समयपर) उठने के लाभ

अ. प्रात: वातावरण शुद्ध, पवित्र, शांत एवं उत्साहवर्धक होता है ।

आ. इस काल में पढाई अच्छी होती है ।

इ. भगवान की पूजा-अर्चना एवं उपासना करें !

संदर्भ : सनातन निर्मित ग्रंथ ‘ सुसंस्कार एवं उत्तम व्यवहार’