विठ्ठलभक्त वारकरी

सारणी


१. वारकरी

भगवान श्री विठ्ठलके भक्तको वारकरी  कहते हैं । इस संप्रदायको वारकरी संप्रदाय कहा जाता है । वारकरी शब्दमें वारी शब्द अंतर्भूत है । वारीका अर्थ है यात्रा करना, फेरे लगाना । जो अपने आस्था स्थानकी भक्तिपूर्ण यात्रा पुन: पुन: करता है उसे वारकरी कहते हैं । सामान्यत: उनकी वेशभूषा इस प्रकार होती है । धोती, अंगरखा, उपरना तथा टोपी इसीके साथ कंधेपर भगवे रंगकी ध्वजा, गलेमें तुलसीकी माला, हाथमें वीणा तथा मुखमें हरिका नाम लेते हुए वह वारीके लिए निकलता है । वारकरी मस्तक, गले, छाती, छाती के दोनों ओर, दोनों भुजाएं ,कान एवं पेटपर चंदन लगाता है ।

२. पंढरपुर वारीका व्रत

पंढरपुरकी वारी कलियुगमें सामान्य जनोंके लिए आचरणमें लानेयोग्य सरल मोक्षदायी व्रत है । यह व्रत आषाढ शुक्ल एकादशीसे आरंभ करते हैं । इसमें मुख्य रूपसे आषाढ, कार्तिक, माघ एवं चैत्र महीनेकी शुक्ल एकादशीको पंढरपुरकी यात्रा करते हैं । इसे ‘वारी’ कहते हैं ।  एकादशीके महत्त्वमें हमने देखा कि एकादशीके दिन भगवान श्री पांडुरंग अर्थात विठ्ठल पुंडलिकको मिलनेके लिए पंढरपुर आते हैं ।

३. पंढरपुरकी वारीकी कथा

भक्त पुंडलिकको दिए वरके अनुसार पंढरपुरमें भगवान श्रीविष्णु विठोबाके रूपमें कमरपर हाथ धरे र्इंटपर युगोंसे खडे हैं  एवं अनेक अज्ञात जीवोंका उद्धार कर रहे हैं । भगवान शिवजीने पंढरपुरकी श्रेष्ठ महिमाको जाना एवं उन्होंने ही प्रथम पंढरपुरकी वारीका आरंभ किया । ऐसी मान्यता है कि शिवजी अपने परिवार के साथ पंढरपुर आते हैं । संत ज्ञानेश्वर महाराजजी, संत नामदेवजी जैसे संतोंने इस स्थानकी महिमाको सामान्य जनोंतक पहुंचाया । तबसे सामान्य जनोंकी पंढरपुरकी वारीमें सम्मिलित होनेकी परंपरा आजतक अखंड रूपसे चल रही है ।

४. पंढरपुरकी वारी

आषाढ एकादशी कहते ही आंखोंके सामने उभर आता है पंढरपुरकी यात्राका दृश्य ! भगवान श्रीविष्णुका जागृत देवस्थान! पिछले आठ सौ से भी अधिक वर्षोंसे भक्तिभावसे सैंकडों किलोमीटर पैदल चलकर लाखों श्रद्धालु पंढरपुरमें एकत्रित होते हैं । माथेपर चंदन का तिलक धारण किए, गलेमें तुलसी माला पहने, हाथोंमें ध्वजा लिए एवं झांझ-मृदंग बजाते हुए भजन करनेवाले पुरुष तथा सिरपर तुलसी लिए महिलाएं ‘पुंडलिक वरदे हारि विठ्ठल … का जयघोष करते हुए अपने आराध्य देवताके दर्शन करने चल पडते हैं । ये हैं विठ्ठलभक्त ‘वारकरी’! आषाढ एवं कार्तिक एकादशीको वारकरी संप्रदायके लाखों लोग तथा अन्य विठ्ठलभक्त इस वारीमें समिल्लित होते हैं । भारतके आध्यात्मिक इतिहासकी यह एक वैशिष्ट्यपूर्ण घटना है । कई लोग इसे विज्ञानयुगका चमत्कार मानते हैं ।

५. वारकरी संप्रदायके बारेमें

वारकरी संप्रदाय वैष्णव संप्रदायोंमेंसे एक प्रमुख संप्रदाय है । पंढरपुरमें वास करनेवाले विठोबा देवता, वारकरी संप्रदायके साथ महाराष्ट्र राज्यके आराध्य देवता भी हैं । इस संप्रदायके अनुयायी,  प्राप्त दीक्षाके अनुसार वार्षिक अर्थात प्रतिवर्ष, छः माहकी अर्थात वर्षमें दो बार, मासिक, पाक्षिक, साप्ताहिक अथवा नित्य पंढरपुरकी यात्रा करते हैं । इस यात्राको ‘वारी’के नामसे जानते हैं । तथा वारी करनेवालोंको ‘वारकरी’ कहते हैं । सामान्यतः सभी वारकरी पैदलही वारी करते हैं । पैदल वारी करनेसे शारीरिक तप होता है । पंढरपुरकी इस वारीके कारण, हिंदु परिवार एवं समाजमें मेल-जोल तथा संगठनमें सौहार्दपूर्ण वातावरण की वृद्धि हुई है ।

६. वारकरी संप्रदायकी रचना एवं गठनमें संतोंका योगदान

संतोंकी कृपासेही वारकरी संप्रदायकी रचना एवं गठन हो पाया है । संत ज्ञानेश्वर महाराजजीने वारकरी संप्रदायकी नींव डाली । उन्होंने इस संप्रदायको तत्त्वज्ञानके आधारपर गठित किया । संत नामदेवजीने महाराष्ट्रके साथही भारत भ्रमण किया एवं सेवकभावसे विठ्ठल भक्तिका विस्तार किया । जनार्दनस्वामीजीके शिष्य संत एकनाथजी इसके आधार स्तंभ बने । उनकी रचना श्रीमदभागवतकी टीकाको एकनाथी भागवतके नामसे जानते हैं । यह लोगोंके लिए पथप्रदर्शक बनी  तथा संत तुकाराम महाराजजी इसके मुकुटमणि बने; अर्थात उन्होंने इस संगठन एवं परंपराको बलशाली बनाया । इस कारण देव एवं धर्मके प्रति सामान्य जनोंके मनमें अभिमानकी वृद्धि हुई । नए उत्साहसे लोग ईश्वरका भजन-पूजन करने लगे ।

इसी कालखंडमें अनेक बाह्य आक्रमण तथा परकीय सत्ताके प्रभावसे समाज भयग्रस्त  था । परकीय अत्याचारोंके कारण सामान्य जनता भी त्रस्त थी । ऐसे समयपर संतोंद्वारा दिखाए गए भक्तिमार्गका अनुसरण करनेसे यहांके समाजमें नई चेतना जागृत हुई । उनमें देव, धर्म एवं हिंदु राष्ट्रकी रक्षा करनेका साहस, बल एवं धैर्य  प्रखर हुआ । परिणामस्वरूप छत्रपति शिवाजी महाराजद्वारा हिंदवी स्वराज्य स्थापनाका प्रयत्न सफल हुआ तथा हिंदवी स्वराज्यकी स्थापना के रूपमें महाराष्ट्रकी जनताको इसका फल प्राप्त हुआ ।

‘जय जय राम कृष्ण हरि’, इस मंत्रका उच्चारण करनेवाले, विविध संतोंके रूपमें अवतरित होकर समाजका दिशादर्शन करनेवाले साक्षात श्रीविष्णु भगवानके रूप श्रीविठ्ठलकी भक्ति करनेवाले वारकरी आज भी भक्तिपथपर चलते हुए सनातन हिंदु धर्म एवं धर्मस्थानोंकी रक्षाके कार्यमें अग्रसर हैं ।

७. विभिन्न प्रांतोंमें एकादशी मनाना

देशके विभिन्न प्रांतोंमें भगवान श्रीविष्णु विभिन्न नाम एवं रूपोंमें वास करते हैं । इन स्थानोंका महत्त्व भी पूरे संसार में माना जाता है । इन सभी स्थानोंपर भी एकादशीका व्रत एवं उत्सव श्रद्धाभाव तथा उत्साहसे मनाया जाता है । वृंदावन एवं मथुरामें विशेष रूपसे परिक्रमाएं की जाती हैं । यह परिक्रमा घडीकी सूइयोंकी दिशामें की जाती है । परिक्रमामार्गमें आनेवाले भगवान श्रीकृष्णसे संबंधित सभी मंदिर, वन एवं कुंड आदिके भी  दर्शन  करते हैं तथा कुंडमें कुछ विशिष्ट कालतक स्नान भी करते हैं । काशीमें पतित पावनी गंगामैयाके पवित्र जलमें स्नान करते हैं । पुरी, उडीसामें भगवान जगन्नाथ,  श्रीरंगम, तमिलनाडुमें श्रीरंगनाथ, तिरुपति, आंध्रप्रदेशमें श्रीबालाजीके मंदिरोंमें भी विशेष रूपसे एकादशी मनाते हैं । साथ ही विभिन्न महीनोंमें आनेवाली एकादशीपर इन स्थानोंपर विशेष उत्सव भी मनाए जाते हैं ।

(संदर्भ : सनातनका ग्रंथ  ‘त्यौहार, धार्मिक उत्सव एवं व्रत’)