झाडू लगाते समय पूर्व दिशा की ओर कूडा क्‍यों ना ढकेलें ?

१. झाडू कब लगाएं ?

‘यदि घर अस्वच्छ हो गया हो, तो नामजप भावपूर्वक करते हुए क्षात्रभाव से, किसी भी समय झाडू लगाएं । ऐसा करने से ही झाडू लगाने की कृति से निर्मित कष्टदायक स्पंदनों का देहपर प्रभाव नहीं होगा ।

कर्मबंधन के आचाररूपी नियम स्वयंपर लागू कर दिन में ही, अर्थात् रज-तमात्मक क्रिया का अवरोध करनेवाले समय में ही यह कर्म कर लें ।

१ अ. सायंकाल झाडू न लगाना

दिन में एक बार ही झाडू लगाएं । सायंकाल के समय झाडू न लगाएं; क्योंकि इस काल में वायुमंडल में रज-तमात्मक स्पंदनों का संचार अधिक मात्रा में होता है । इसलिए झाडू लगाने की रज-तमात्मक क्रिया से संबधित इस प्रक्रिया से घर में अनिष्ट शक्तियों के प्रवेश की आशंका अधिक रहती है । दिन में वायुमंडल सत्त्वप्रधान होता है, इसलिए झाडू लगाने की रज-तमात्मक क्रिया से निर्मित कष्टदायक स्पंदनोंपर यह वायुमंडल यथायोग्य अंकुश लगाए रखता है । अतः इस क्रिया से किसी को भी कष्ट नहीं होता ।

१ आ. त्रिकालसंध्या से पूर्व झाडू लगाना

संकलनकर्ता : दिनभर घर में एकत्रित हुआ कूडा संध्या के समय निकालने से, उसके उपरांत आनेवाले रज-तमात्मक स्पंदन वास्तु में कम मात्रा में आकृष्ट होते हैं । इसलिए संध्यासमय भी झाडू लगाते हैं । आपने ऐसा क्यों बताया है कि ‘सायंकाल में झाडू न लगाएं ?’

एक विद्वान : कलियुग के जीव रज-तमप्रधान हैं । अतः जहांतक हो सके, वे रज-तमात्मक स्पंदनों को आकृष्ट करनेवाले कर्म सायंकाल में न करें । सायंकाल में वायुमंडल में रज-तमात्मक तरंगों का संचार बढ जाता है । झाडू लगाने की घर्षणात्मक कृतिद्वारा भूमि से संलग्नता साध्य होती है । इससे पाताल के कष्टदायक स्पंदनों की गति में वृद्धि हो जाती है ।

कूडा बाहर फेंकने की कृति की अपेक्षा नाद के स्तरपर सूक्ष्म स्वरूप में वास्तु में रज-तमात्मक स्पंदनों के घूमते रहने की मात्रा अधिक हो जाती है । इसीलिए जहांतक संभव हो, त्रिकालसंध्या का समय बीतनेपर झाडू न लगाएं । अतः कहा गया है कि, ‘यथासंभव, सायंकाल में झाडू न लगाएं ।’ त्रिकालसंध्या से पूर्व झाडू लगाते समय उत्पन्न नाद से रज-तमात्मक तरंगें कम आकृष्ट होती हैं ।

ऐसा कहते हैं कि, त्रिकालसंध्या के समय घर में लक्ष्मी आती है । अर्थात् त्रिकालसंध्या से पूर्व झाडू लगाकर त्रिकालसंध्या के समय तुलसी के निकट दीप जलाने से शक्तिरूपी तरंगें दीप की ओर आकृष्ट होकर वास्तु में प्रवेश करती हैं । इस तेजदायी देवत्व के कारण सायंकाल के कष्टदायक स्पंदनों से रक्षण होता है ।’

– एक विद्वान (श्रीमती अंजली गाडगीळ के माध्यम से, २६.१०.२००७, दोपहर ५.२०)

२. झाडू से कूडा कैसे निकालें ?

२ अ. झाडू लगाते समय कमर की दाहिनी ओर झुककर दाहिने हाथ में झाडू लेकर, पीछे से आगे की ओर कूडा धकेलते हुए ले जाएं ।

कमर झुकाने से होनेवाली प्रक्रिया : ‘कूडा निकालते समय कमर से झुकने से नाभिचक्रपर दबाव पडने से पंचप्राण जागृत होते हैं । घुटने झुकाकर कभी भी कूडा न निकालें; क्योंकि इस मुद्रा से घुटने के रिक्त स्थान में संग्रहित अथवा घनीभूत रज-तमात्मक वायुधारणा को गति प्राप्त होने की आशंका रहती है । इस मुद्रा से झाडू लगानेपर पाताल से वायुमंडल में ऊत्सर्जित कष्टदायक स्पंदन देह की ओर आकृष्ट होने का भय रहता है । इसलिए यथासंभव, देह में रज-तमात्मकता का संवर्धन करनेवाली ऐसी कृति न करें ।

दाहिनी ओर से झुकने से होनेवाली प्रक्रिया : दाहिनी ओर झुककर कूडा निकालने से देह की सूर्य नाडी जागृत रहती है तथा तेज के स्तरपर, भूमि से उत्सर्जित कष्टदायक स्पंदनों से रक्षण होता है ।’ – एक विद्वान (श्रीमती अंजली गाडगीळ के माध्यम से, २६.१०.२००७, दोपहर ५.२०)

२ आ. पूर्व दिशा के अतिरिक्त अन्य किसी भी दिशा की ओर कूडा ढकेलें ।

‘पूर्व दिशा की ओरसे देवताओं की सगुण तरंगों का पृथ्वीपर आगमन होता है । कूडा रज-तमात्मक होता है, इसलिए पश्चिम से पूर्व की ओर कूडा ढकेलते समय कूडा और धूल का प्रवाह पूर्व दिशा में होता है तथा इसके माध्यम से रज-तम कण एवं तरंगों का प्रक्षेपण होता है । इससे पूर्व दिशा से आनेवाली देवताओं के सगुण तत्त्व की तरंगों के मार्ग में बाधा निर्माण होती है । अतः झाडू लगाते हुए पूर्व की ओर जाना अयोग्य है । पूर्व दिशा के अतिरिक्त अन्य किसी भी दिशा की ओर झाडू लगाते हुए जा सकते हैं ।’ – ईश्वर (कु. मधुरा भोसले के माध्यम से, २८.११.२००७, रात्रि १०.५५)

झाडू लगाते समय अंदर से बाहर की दिशा में, अर्थात् द्वार की दिशा में ढकेलते हुए आगे ले जाएं ।

२ इ. कूडा आगे ढकेलते समय झाडू को भूमि से विपरीत दिशा में रगडकर न ले जाएं ।

‘झाडू लगाते समय उसे आगे की ओर ढकेलते हुए ले जाएं । एक बार कूडा आगे करने के उपरांत झाडू को पुनः पीछे की ओर घिसते हुए झाडू न लगाएं; क्योंकि इस घर्षणात्मक क्रिया से भूमिपर घडी की सुइयों की विपरीत दिशा में घूमनेवाले गतिमान भंवरों की निर्मिति होती है । झाडू लगाते समय भूमि के निकट के पट्टे से पाताल से उत्सर्जित कष्टदायक स्पंंदन इन भंवरों में घनीभूत होते हैं । इस कारण कूडा निकालने के उपरांत भी सूक्ष्म दृष्टि से वास्तु में अशांति ही रहती है । अतः झाडू विपरीत दिशा में, पीछे ले जाकर कूडा न निकालें । प्रत्येक बार आगे से पीछे आते समय झाडू भूमिको बिना घिसे उठाकर पीछे ले जाएं, फिर उसे भूमिपर रखकर कूडा निकालें ।’ – एक विद्वान (श्रीमती अंजली गाडगीळ के माध्यम से)

२ ई. झाडू भूमिपर न पटकें और न ही उसे बलपूर्वक घिसकर कूडा निकालें ।

‘कूडा निकालते समय झाडू भूमिपर मारने अथवा बलपूर्वक घिसकर कूडा निकालने जैसी कृतियों से कष्टदायक नाद उत्पन्न होते हैं । इससे पाताल के तथा वास्तु के कष्टदायक स्पंदन कार्यरत होते हैं । कालांतर से इन तरंगों का वातावरण में प्रक्षेपण आरंभ होता है एवं वास्तु में अनिष्ट शक्तियों का संचार भी बढता है । इसलिए ऐसी कृतियां न करें । उपरोक्त सभी कृतियां तमोगुणी वृत्ति की प्रतीक हैं ।’ – एक विद्वान (श्रीमती अंजली गाडगीळ के माध्यम से)

३. कूडे का विनियोग कैसे करें ?

‘कूडा निकालने के उपरांत उसे घर के बाहर रखे कूडेदान में डालकर अग्नि की सहायता से जलाएं ।

कूडा यदि तत्काल बाहर फेंकना संभव न हो तो घर के कोने में रखे कूडेदान में फेंकें । कोने में विद्यमान इच्छाशक्तितत्त्वात्मक तरंगों की घनीभूत धारणा में कूडे की कष्टदायक स्पंदनों को एकत्र करने की क्षमता रहती है । इससे कूडे के कष्टदायक स्पंदन सर्वत्र नहीं फैलते ।’

– एक विद्वान (श्रीमती अंजली गाडगीळ के माध्यम से)

संदर्भ पुस्तक : सनातन का सात्विक ग्रन्थ ‘आदर्श दिनचर्या (भाग १) स्नानपूर्व आचार एवं उनका अध्यात्मशास्त्रीय आधार

राष्ट्र एवं धर्म रक्षा के लिए कार्यरत
हिन्दू जनजागृति समिति को
दिया गया धर्मदान ‘सत्पात्र दान’ होगा !