बाबाराव सावरकर

क्रांतिवीर गणेश दामोदर तथा बाबाराव सावरकर स्वा. विनायक दामोदर सावरकरजी के बडे भाई । उन्होंने ही स्वा. सावरकर को पितृतुल्य प्रेम देकर, बहुत कष्ट भोगकर छोटे से बडा किया एवं क्रांतिकार्य में उनके बराबर सहभागी हुए । Read more »

दादाभाई नौरोजी

४ सितंबर, १८२५ को दादाभाई नौरोजी का जन्म मुंबई में हुआ था। उनकी शिक्षा यहां के ‘नेटिव एजुकेशन सोसाइटी’ नामक संस्था की पाठशाला में हुई ।अपनी शिक्षा पूर्ण करनेपर वे एलफिन्स्टन महाविद्यालय में गणित के अध्यापक के रूप में काम संभाला । Read more »

हुतात्मा भगतसिंह

सरदार भगतसिंह, राजगुरु, सुखदेव, बटुकेश्वर दत्त एवं भगवतीचरण वोरा आदि स्वतंत्रता सेनानी ‘हिंदुस्थान सोशलिस्ट रिपब्लिकन असोसिएशन’ संघटना के सभासद थे । Read more »

बाजीप्रभू देशपांडे

बाजीप्रभु देशपांडे स्वयं पराक्रमी योद्धा थे; साथ ही वे त्यागी, स्वामीनिष्ठ, तत्त्वनिष्ठ एवं किसी भी प्रलोभन के वश में आनेवाले नहीं थे । पचास वर्ष की आयु में बिना थके हुए, दिनके २०-२२ घंटा काम करनेवाले बाजी का संपूर्ण मावल प्रांत में प्रभाव था । Read more »

गुरु गोविंद सिंह – संतों के क्षात्रधर्म का उत्तम उदाहरण !

गुरु गोविंद सिंहजी सदा-सर्वदा ऐसे विचार करनेवाले थे । उनकी माता का नाम गुजरी एवं पिताजी का नाम गुरु तेगबहादुर सिंहजी था । गुरु गोविंद सिंहजी ने जीवनभर क्षात्रधर्म साधना की । Read more »

४० सहस्र भारतीय स्त्री-पुरुषों के सहयोग से स्थापित ‘आजाद हिंद सेना’ !

अंग्रेजों के विरोध में लडने हेतु नेताजी सुभाषचंद्र बोसद्वारा ४० सहस्र भारतीय स्त्री-पुरुषों के सहयोग से ‘आजाद हिंद सेना’की स्थापना की गई थी । ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आजादी दूंगा’ ऐसा आवाहन किया गया था । Read more »

`हिंमत साहस है तो मुझपर गोली चलाओ – शिरीषकुमार

गुजराती थी मातृभाषा हो बोलनेवाले शिरीषने पदयात्रा में घोषणाएं देना आरंभ किया, ‘नहीं नमशे, नहीं नमशे’, ‘निशाण भूमी भारतनु’ । भारत माता का जयघोष करते हुए यह यात्रा गांव से जा रही थे । Read more »

खुदीराम बोस

भारत के सबसे युवा क्रांतिकारी के रूप में परिचित खुदीराम बोस अपनी आयु के केवल १९ वें वर्ष में ही वीरगति को प्राप्त हुए । उनका जन्म बंगाल में स्थित जिले के बहुवेनी गांव में हुआ था । Read more »

क्रांतीकारी जतींद्रनाथ दास

राजकीय कैदियों की यातनाएं बंद होने के लिए ६१ दिनों के उपोषण का अग्निदिव्य कर के स्वयं को राष्ट्र के लिए समर्पित करनेवाले क्रांतीकारी जतींद्रनाथ दास ! Read more »

लाला लाजपत राय

लाला लजपतराय को पंजाब का केसरी (शेर) कहा जाता था । वे सचमुच पंजाब के ही नहीं, संपूर्ण भारत के केसरी थे । वे जब बोलते थे, तो केसरी की ही भांति उनका स्वर गूंजता था । Read more »