Due to a software update, our website may be briefly unavailable on Saturday, 18th Jan 2020, from 10.00 AM IST to 11.30 PM IST

स्वातंत्र्यवीर सावरकर

‘होंगे कई, हुए कई, परंतु इसके समान यही’

  • हिन्दुस्थान की स्वतंत्रता हेतु अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रांतिकारक आन्दोलन संघटितकरने वाले आद्य क्रांतिवीर

  • दो देशों की सरकार ने जिनके ग्रंथ पर प्रसिद्धिपूर्व प्रतिबन्ध लगाया ऐसे विश्व केआद्य लेखक

  • हिन्दुस्थान के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए जिनकी पदवी विद्यापीठ नेवापस ले ली ऐसे आद्य पदवीधर

  • हिन्दुस्थान के स्वतन्त्रता संग्राम में सहभागी होने के लिए जिनकी बॅरिस्टर पदवीनकारी गयी ऐसे आद्य विधिज्ञ

  • विदेशी कपडों की निभर्‍य रूप से प्रकट होली आयोजित करनेवाले आद्यदेशभक्त

  • हिन्दुराष्ट्र के सर्वांगीण विकास की दृष्टी से सर्वस्पर्शी विचार करनेवाले,अस्पृश्यता व जातिभेद के विरुद्ध बिगुल बजानेवाले आद्य क्रांतिवीर

  • ब्रिटिश न्यायालय का अधिकार नाकारनेवाले आद्य भारतीय विद्रोही नेता

  • ५० वर्ष सीमा पार की कालापानी का दंड प्राप्त होने वाले तथा वह समाप्त होनेपर सक्रिय कार्य करनेवाले विश्व के आद्य राजबंदी

  • कारागृह में लेखन साहित्य न मिलेन पर पत्थर से कारागृह की दीवार पर लगभग दस सहस्त्र पंक्तियों का काव्य कोरनेवाले तथा वह सहबंदिवानों से मुखोद्गत करवाकर प्रसिद्ध करनेवाले विश्व के आद्य कवि

  • अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में जिनकी गिरफ्तारी रही ऐसे हिन्दुस्थान के आद्य राजबंदी

  • योगशास्त्र की उत्तुंग परंपरा के अनुसार प्रायोपवेशन से मृत्यु को प्राप्त करने वाले आद्य तथा एकमेव क्रांतिकारी महायोगी

साभार : सावरकर.ओर्ग