आजाद हिंद सेना की कप्तान ‘लक्ष्मी’

‘कप्तान लक्ष्मी का जन्म २४.१०.१९१४ को मद्रास में (चेन्नई में) हुआ था ।इ.स. १९३८ में २४ वर्ष की आयु में उन्होंने एम.बी.बी.एस. की परिक्षा में उत्तीर्ण की । सिंगापुरमें नेताजी सुभाषचंद्रजी के भाषणों से प्रभावित होकर वह आजाद हिंद सेना की ओर आकर्षित हुई । २२ अक्टूबर को झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का जन्मदिवस था । इसीदिन सन् १९४३ में सुभाषबाबूने आजाद हिंद फौज की स्त्रियों की शाखा ‘झांसी रानीलक्ष्मी’ दल की स्थापना की । इस दल का नेतृत्व लक्ष्मीने संभाला । कप्तान लक्ष्मी अपनी अलग-अलग टुकडियों के साथ (गुटको लेकर) प्रत्यक्ष रणभूमिपर अंग्रेजी सेना से लडने के लिए निकल पडी; परंतु उस समय उनके पास पर्याप्त रसद (कच्चाअनाज), कपडे, बारुद नहीं थे । जिस भाग में उन्हें जाना था, वह चट्टानों से भरा घने जंगल का क्षेत्र था ।

सवेरे मुहिमपर प्रस्थान करने का आदेश आया । उस समय अंग्रेजी सेना लगभग एक मील दूर थी, तब सेनाद्वारा लक्ष्मी दलपर अचानक से आक्रमण हुआ । तुरंत कप्तान लक्ष्मीने प्रत्युत्तर देने का आदेश दिया । ‘झांसी रानी’ दलने अंग्रेजी सेनापरआक्रमण किया, बंदूकें , गोलियां चारों दिशाओं में चलने लगीं, तोपों से भयंकर आग के गोले शत्रुपर बरसने लगे । ‘जय हिंद’, ‘इन्कलाब जिंदाबाद’, ‘आजाद हिंद जिंदाबाद’ की घोषणाओं से अंग्रेजी सेना कांप उठी । ऐसी जोशभरी घोषणाओं के बीच तोंपे चल ही रही थी । कप्तान लक्ष्मी की ‘झांसी रानी’ विजयी हुई । हिंदुस्थान एवं ब्रह्मदेश की सीमापर हुई इस लडाई में ‘झांसी रानी’ दलने अंग्रजों के पुरुषों के शूर दल को घुटने टेकनेपर विवश कर दिया ।’