Due to a software update, our website may be briefly unavailable on Saturday, 18th Jan 2020, from 10.00 AM IST to 11.30 PM IST

विद्यार्थी मित्रो, गणेशजी का होनेवाला अनादर रोककर उनकी कृपा संपादन करने के लिए प्रयत्नरत हों !

मित्रो, गणेशजी अपने आराध्य देवता हैं । गणेशजी बुद्धीदाता होनेसे विद्यार्थियोंके जीवनमें उनका विशेष महत्त्व है । हम गणेशजीकी पूजा करते हैं । वे हमें ज्ञान तथा आनंद प्रदान करते हैं । इसके साथ ही मानवको दैनंदिन कार्य करनेके लिए जो प्राणशक्ति आवश्यक है, वह भी वे ही हमें प्रदान करते हैं । मित्रो, गणेशजी के बिना हम कुछ भी नहीं कर सकते हैं । फिर यदि उनका अनादर हो, तो हमें अच्छा लगेगा क्या ? वे हम सभी की ‘मां’ हैं । मित्रो, हम श्री गणेशका अनादर कदापि सहन नहीं करेंगे ।

इस गणेशोत्सवमें जो कोई भी गणेशजी का अनादर करेगा, उन्हें हमें परावृत्त करना चाहिए । तब ही हमपर वास्तवमें गणेशजीकी कृपा होगी ।

१. विविध माध्यमोंसे होनेवाला गणेशजी का अनादर तथा उसे टालनेके लिए किए जानेवाले उपाय

१ अ. गणेशजी का चित्रयुक्त परीक्षा पैडका लिखनेके लिए प्रयोग किया जाना : आजकल बच्चे परीक्षाके लिए जाते समय गणेशजी के चित्रयुक्त परीक्षा पैडका उपयोग करते हैं । जहां गणेशजी का चित्र है, वहां उस देवताका अस्तित्व है । फिर मित्रो, गणेशजी नीचे तथा उनपर हम उत्तरपत्रिका लिखेंगे, फिर वह पैड कहीं भी रख देंगे । इससे हमारेद्वारा देवताका अपमान नहीं होगा क्या ? मित्रो, हम गणेशजी के स्थानपर अपने माता-पिताका छायाचित्र रख सकते हैं क्या ? नहीं न ? इसके विपरीत हम उत्तरपत्रिका लिखने से पूर्व गणेशजीको नमस्कार करके प्रार्थना करनी चाहिए । मित्रो, हमें यह अनादर रोकना ही होगा । यही गणेशजी को अच्छा लगेगा ।

१ आ. गणेशजी के चित्रयुक्त टी-शर्टका उपयोग करना : मित्रो, प्रत्येक वस्तुको हम योग्य स्थानपर ही रखते हैं । भगवान का स्थान सबसे अच्छे स्थानपर अर्थात पूजाघरमें होता है, फिर ऐसे देवताके चित्रटी-शर्टपर कैसे छापें ? यह उचित है क्या ? हम अपने कपडे कहीं भी डालते हैं । उसे धोते समय पटकते हैं, ब्रशसे घिसते हैं । मित्रो, जहां देवताका चित्र है वहां उनका अस्तित्व भी है न । फिर गणेशजीको ब्रश से घिसना अपने गणेशजी का घोर अनादर ही है । मित्रो, क्या आप पापके भागीदार बनेंगे । नहीं न, तो आप अपने मित्रोंका मित्रोंका प्रबोधन करनेका निश्चय करें ।

१ इ. कार्टून स्वरूपमें गणेशजी का चित्र बनाना अथवा अधूरा चित्र बनाना : आजकल बच्चे चित्रकला के नामपर कार्टूनके रूपमें गणेशजी का चित्र बनाते हैं । उसी प्रकार गणेशजीकी मूर्तिके प्रत्येक भागके अलग-अलग चित्र बनाते हैं अथवा केवल गणेशजी का मुखौटायुक्त चित्र बनाते हैं । मित्रो, हम स्वयंका ऐसा अधूरा चित्र बनाएंगे क्या ? कोई भी चित्र पूर्ण होनेपर ही उस देवताकी शक्ति प्रक्षेपित होती है । ऐसे अधूरे चित्र होंगे, तो उससे बुरे स्पंदन आते हैं । मित्रो, मान लो किसी व्यक्तिने अपनी मां का ऐसा अधूरा चित्र बनानेके लिए कहा, तो हम बनाएंगे क्या ?

१ ई. कार्टून स्वरूप में गणेशजी के चित्रकी रंगोली बनाना : कुछ बच्चे रंगोली की स्पर्धा में भाग लेते हैं तथा गणेशजी के चित्र की रंगोली बनाते हैं । कार्टून स्वरूप में अथवा मूर्ति के अवयवों की रंगोली बनाते हैं । मित्रो, गणेशजी की रंगोली बनाना क्या कोई शोभायमान चित्र है ? यह तो अपने देवी-देवताओंके विषय में भक्तीभाव न्यून होने का द्योतक है । अपने देवताओं के विषय में भक्तीभाव अल्प होने का यह लक्षण है । इससे हम पर गणेशजी की कृपा होगी क्या ? नहीं न ? मित्रो, हमें यह सब रोकना चाहिए, तब ही गणेशजी हमें आशीर्वाद देंगे । इस गणेशोत्सव में रंगोली बनाई हुई हो तो इससे भगवानका अपमान होता है, इस विषय में बताना चाहिए ।

१ उ. अपनी बहीपर गणेशजी का स्टीकर होना तथा बही कहीं भी रखी जाना : मित्रो, अनेक लोगों की बहियों (Note Book) पर कार्टून स्वरूप में गणेशजी का स्टीकर होता है । कार्टून स्वरूप में गणेशजी होना, यह एक अनादर ही है और ऐसी बही कहीं भी रखनेसे उनका और अनादर ही होता है । मित्रो, हमें सभीका प्रबोधन कर के यह गणेशजी का होनेवाला अपमान रोकना ही चाहिए ।

१ ऊ. अगरबत्तियोंके वेष्टनोंपर गणेशजी का चित्र होना : मित्रो, अगरबत्ती समाप्त होनेपर उसके वेष्टन कूडेदान में फेंक दिए जाते हैं । जिस देवताको हम अपना आराध्य देवता मानकर पूजते हैं, उसका यह घोर अनादर है । ऐसा अनादर करने की अपेक्षा हमें ऐसी अगरबत्तियां खरीदनी ही नहीं चाहिए, जिस पर देवताओं के चित्रयुक्त वेष्टन हों । जो दुकानदार ऐसी अगरबत्तियोंकी बिक्री करते हैं, उन्हें भी बताना कि ऐसी अगरबत्तियां अपनी दुकान में न रखें ।

१ ए. विसर्जन की शोभायात्रा में गणेशजी का मुखौटा डालकर अश्लील हाव-भाव करते हुए नृत्य करना : कुछ लोग विसर्जन की शोभायात्रा में गणेशजी का मुखौटा डालकर तथा ‘रीमिक्स’ सिनेगीतोंपर अश्लील हाव-भाव करते हुए नाचते हैं । यह भी अपने गणेशजी का घोर अनादर ही है । मित्रो, ऐसा अनादर हो रहा हो, तो उसे तुरंत रोकना ही चाहिए । इसीसे गणेशजी की कृपा होगी । उसी प्रकार गणेशजी के सामने ऐसे नाचते हुए विसर्जन करने से बच्चों के मन में भगवान गणेशजी के विषय में भक्तीभाव बढेगा क्या ? इसके लिए यह अश्लील प्रकार बंद करने के लिए हम सभी को प्रयत्न करने चाहिए ।

१ ऐ. गणेशजी का चित्रयुक्त बस्तेका उपयोग करना : बस्ता देवताओं के चित्र लगाने का स्थान है क्या ? जिन बस्तोंपर गणेशजी अथवा अन्य देवताओंके चित्र हैं, ऐसे बस्तोंकी खरीदी ही न करें । हम बस्ता कैसे भी रखते हैं और अप्रत्यक्षरीतिसे देवताओं का अनादर करते हैं । हमें अपने मित्रों को बताना चाहिए कि ऐसे बस्ते नहीं खरीदने चाहिए ।

मित्रो, इस गणेशोत्सव के निमित्त हमें निश्चय करना है कि, हमारे बुद्धीदाता गणेशजी का अनादर कभी सहन नहीं करेंगे । उनके द्वारा दी गई बुद्धी के कारण ही हम पढाई कर पाते हैं । हम भगवान गणेशजी के चरणों में क्षमा मांगकर प्रार्थना करेंगे, ‘हे गणेश भगवानजी, आज तक हमसे अज्ञानवश आपका जो अनादर हुआ है, उसके लिए आप हमें क्षमा करें । हम अनंत अपराधी हैं । हे गणेश भगवानजी, यह सर्व रोकने के लिए आप ही हमसे प्रयत्न करवा लें’, यही आपके चरणों में प्रार्थना है !’

– श्री. राजेंद्र पावसकर (अध्यापक), देवद, पनवेल.