अभिभावकों के कर्तव्य कौनसे हैं ?

ई.स. १९५० में बालक एवं युवा बच्चों के संबंध में मिड सेंच्युरी वाईट हाऊस परिषद में विद्यमान सभासदोंद्वारा ली गई शपथ में समाविष्ट अभिभावकों के मुख्य कर्तव्य एवं बच्चों को दिए आश्वासन आगे दिए अनुसार हैं ।

१. ‘‘हम तुम्हारा पालन-पोषण अत्यंत लाड-दुलार से करेंगे । इससे तुम में आत्मविश्वास उत्पन्न होगा एवं अन्यों के प्रति  विश्वास होगा ।” 

२. ‘‘हम तुम्हारे व्यक्तित्व को आदरपूर्वक स्वीकारेंगे तथा तुम में अपनत्व की भावना दृढ करने हेतु सदैव प्रयत्नशील रहेंगे ।”

३. ‘‘हम तुम्हारी व्यक्तिगत स्वतंत्रता को महत्त्व देंगे एवं अन्यों की व्यक्तिगत स्वतंत्रता का सम्मान करने के लिए सहायता करेंगे । उसी प्रकार, तुम्हें अत्यंत हंसते-खेलते वातावरण का अनुभव करवाएंगे ।”

४. ‘‘प्रथम करना, तत्पश्चात् बताना, ऐसा आचरण कर तुम्हें सच्चाई के महत्त्व का दर्शन करवाएंगे एवं नैतिक धैर्य का महत्त्व भी समझाएंगे ।”

५. ‘‘परमेश्वर पर अटूट श्रद्धा की रक्षा एवं उस में वृद्धि करने के लिए अधिक-से-अधिक अवसर प्राप्त करवाते रहेंगे ।”

६.  ‘‘हम मनमें किसी प्रकार का अविश्वास अथवा भेदभाव न रख, आपसी सहयोग से एक आदर्श एवं समतायुक्त समाज बनाएंगे ।” 

७. ‘‘हम स्वयं अद्यतन (आज से संबंध रखनेवाला ज्ञान) ज्ञान प्राप्त करने के लिए दृढ निश्चय के साथ प्रयास करेंगे । इससे हम तुम्हारे सुप्त बुद्धिसामर्थ्य का विकास करने के लिए तुम्हें अधिक प्रभावी ढंग से मार्गदर्शन कर सकेंगे ।”

८. ‘‘तुम्हारे बाल्यावस्था से क्रमशः युवावस्था एवं प्रौढावस्था में जाते समय; इसी प्रकार, गृहस्थाश्रम में विद्यमान विविध सामाजिक कर्तव्यों को पूरा करते समय एवं बच्चों तथा युवओं के सर्व प्रश्नों का समाधान करते समय हम तुम्हें सहयोग करेंगे ।”

९. ‘‘उपर्युक्त सर्व बातों एवं वचनोंकी पूर्ति करना यदि संभव न हो सके, तो भी हम व्यक्तिगत स्वतंत्रता, न्याय एवं परस्पर आदरपर आधारित समाज-रचनाका पवित्र कर्म साध्य करने हेतु बलिदान देने में सहयोग करनेके लिए निश्चितरूप से तुम्हारा आवाहन करेंगे ।” 

१०. ‘‘तुम सब का आनंदमय वातावरण में विकास हो, इस हेतु हम परमेश्वर पर श्रद्धा एवं आपसी विश्वास, मानव की दूरदर्शीवृत्ति एवं चैतन्यमय वातावरण के साथ कल के उज्ज्वल भविष्य के सामने जाएंगे ।”

संदर्भ : मासिक सनातन प्रभात