होली की पौराणिक कथा

होली त्यौहार मनाने के पिछे हिरण्यकश्यप और उसकी बहन होलिका की कथा अत्यधिक प्रचलित है। यह कथा विस्तार से देखेंगे । Read more »

होली

धर्मशिक्षा न मिलनेसे प्रत्येक त्यौहार क्यों एवं कैसे मनाना चाहिए, उसके पीछे क्या शास्त्र है, यह हमें ज्ञात नहीं है; इसलिए हमारे त्यौहारोंमें अनेक अनाचार होते हैं । यह अनाचार रोकनेके लिए प्रत्येक हिंदू बच्चेको धर्मशिक्षा लेना आवश्यक है । Read more »

होली एवं रंगपंचमी के समय अनुचित कृतियां न करें !

होली अर्थात् दुष्प्रवृत्ति तथा अमंगल विचारों का नाश कर, सत्प्रवृत्ति का मार्ग दिखानेवाला उत्सव । होली मनाने में उदात्त भावना यह है कि, अग्नि में वृक्षरूपी समिधा अर्पण करने से वातावरण की शुद्धि हो । Read more »