Reduce the influence of Sanskrut language on Marathi language ! – President of the Sahitya Sammelan

राष्ट्र एवं धर्म रक्षा के लिए कार्यरत
हिन्दू जनजागृति समिति को
दिया गया धर्मदान ‘सत्पात्र दान’ होगा !