व्यक्तिस्वतंत्रतावाले देश को विनाश की ओर ले जा रहे हैं !

व्यक्ति की अपेक्षा समाज एवं समाज की अपेक्षा राष्ट्र महत्त्वपूर्ण है, यह समझ में न आनेवाले व्यक्तिस्वतंत्रतावाले देश को विनाश की ओर ले जा रहे हैं !