कर्नाटक राज्य के ‘मुझराई’ (इंडोवमेंट) विभाग के अन्य धर्मीय अधिकारियों की नियुक्ती तत्काल रद्द करें !

सरकार द्वारा जनता को प्रदान किए गए सूचना अधिकार अधिनयम के अंतर्गत मंगवाई गई जानकारी के अनुसार कर्नाटक सरकार ने राज्य के हिन्दू मंदिरों का प्रबंधन देखने हेतु बनाए गए ‘मुझराई’ (इंडोवमेंट) विभाग में हिन्दू धर्मियों के अतिरिक्त अन्य धर्मीय (४ मुस्लिम तथा २ ईसाई) अधिकारियों की नियुक्ती होने की बात सामने आई है । श्रीमती मॅगडीलन नलीना, जी.एस. सय्यद मुनीर, डी.के. समीमुल्ला, ए.एस्. डिसोझा, मोहंमद जी शान अली खान, अब्दुल अझीझ, यह उन अधिकारियों के नाम हैं ।

कर्नाटक ‘मुझराई’ (इंडोवमेंट) विभाग यह हिन्दुआें के देवालयों का प्रबंधन देखनेवाला विभाग होने से उसमें अहिन्दू व्यक्ति की नियुक्ती अवैध है तथा यह नियुक्ती के नियमों के विरुद्ध है । ‘‘कर्नाटक टेंपल एक्ट एण्ड अपॉइटमेंट ऑफ पर्सन अंडर हिन्दु रिलीजीयस इन्सिस्टीट्यूशन’’ कानून १९९७ की धारा ७ के अनुसार ‘काम करनेवाले सभी अधिकारी अथवा नौकर हिन्दू ही होने चाहिए’, ऐसा स्पष्ट उल्लेख है । इसका अर्थ यही है कि नियुक्ती करते समय सीधेसीधे शासकीय नियमों को ताकपर रखा गया है ।

इसिलिए हिन्दुआेंद्वरा उपरोक्त ६ अधिकारियों की नियुक्ती तत्काल रद्द करने एवं ऐसी अवैध नियुक्ती करनेवाले संबंधितों पर योग्य वैधानिक कार्यवाही करनेकी मांग की गर्इ है ।

आॅनलार्इन हस्ताक्षर अभियान में सहभागी होकर कर्नाटक राज्य के ‘मुझराई’ (इंडोवमेंट) विभाग के अन्य धर्मीय (४ मुस्लिम तथा २ ईसाई) अधिकारियों की नियुक्ती तत्काल रद्द करनेकी मांग करें !

Cancel appointments of non-Hindu officials in Karnataka Endowment Department

Dear Sir,

As per the reference link given below, I came to know that the Karnataka Government has appointed 6 non-Hindu officials (4 Muslim and 2 Christians) in the Endowment Department set up for the Hindu temples. The names of the officials are Smt. Magdilan Nalina, G.S. Sayyad Munir, D.K. Samimulla, A.S. D’Souza, Mohammad G. Shan Ali Khan and Abdul Aziz. Since the Karnataka Endowment Department is meant for looking after the management of the Hindu temples, the appointment of non-Hindu officials on the Endowment Department is illegal and not as per the rules. The Section 7 of ‘Karnataka Temple Act and Appointment of Person under Hindu Religious Institution’ clearly states that all the working officials and the servants should be Hindus. This means while making appointments, the Government rules have brazenly been flouted.

I, therefore, demand that Government should take a serious view and cancel all the above appointments without delay and appropriate action to be taken against the officials concerned for making appointments flouting the rules.

Yours faithfully,

[signature]

190 signatures

Share this with your friends: