Akshay Tritiya (Hindi Lekh)

No Comments
Tweet about this on TwitterShare on FacebookShare on Google+Email this to someonePrint this page

अक्षय तृतीया

सारणी -

१. प्रस्तावना
२. साढे तीन मुहूर्तोंमें से एक है अक्षय तृतीयाका दिन !
३. अक्षय तृतीयाका महत्त्व
४. त्यौहार मनानेकी पद्धति
५. पूर्वजोंको गति मिले, इस हेतु अक्षय तृतीयापर तिलतर्पण आवश्यक
       ५.१ तिलतर्पणका अर्थ व भावार्थ
       ५.२ पूर्वजोंको तिलतर्पण करनेका महत्त्व व पद्धति
६. देवता व पूर्वजोंको किए तिलतर्पणके कारण साधकपर शेष देवऋण तथा पितरऋण कुछ मात्रामें कम होता है
७. अक्षय तृतीयापर दान देनेका महत्त्व

८. अक्षयतृतीयापर किए जानेवाले तिलतर्पणकी मानसविधि करते समय दम घुटना व कोई गला दबा रहा है, ऐसा अनुभव होना


१. प्रस्तावना

वैशाख शुक्ल पक्षकी तृतीयाको अक्षय तृतीया कहते हैं । परशुरामका जन्म होनेके कारण इसे परशुराम तीज भी कहते हैं । इसी दिन त्रेतायुगका आरंभ हुआ था । इस दिन गंगा स्नान व भगवान कृष्णको चंदन लगानेका विशेष महत्त्व है । इसी विशेष पर्वपर भगवान बद्रीनाथजीके मंदिरके द्वार भी खुलते हैं और श्रद्धालुओंको उनके दर्शनका लाभ मिलता है । इस दिन भगवानको भिगोई गई चनेकी दाल व मिश्रीका भोग लगाया जाता है ।

२. साढे तीन मुहूर्तोंमें से एक है अक्षय तृतीयाका दिन !

साढे तीन मुहूर्तोंके अंतर्गत अक्षय तृतीया, संवत्सरारंभ (गुढी पाढवा) और दशहरा, प्रत्येकका एक दिन एवं बलिप्रतिपदाका आधा दिन, इस प्रकार वर्षभरमें साढे तीन दिनोंके मुहूर्त होते हैं । इन दिनोंकी विशेषता यह है कि किसी भी शुभकार्यके लिए मुहूर्त देखनेकी आवश्यकता नहीं होती; क्योंकि इन विशिष्ट दिनोंका प्रत्येक क्षण ही मुहूर्त होता है ।

 अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं ।
 तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया ।
 उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै: ।
 तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव ।। – मदनरत्न

अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथिपर किए गए दान व हवनका क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है । इस तिथिपर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं । 

३. अक्षय तृतीयाका महत्त्व

अक्षय तृतीयापर ब्रह्मा व श्रीविष्णुकी मिश्रित तरंगें उच्च देवताओंके लोकसे अर्थात् सगुण लोकसे पृथ्वीपर आती हैं और इसके परिणामस्वरूप पृथ्वीकी सात्त्विकतामें १० प्रतिशत वृद्धि होती है । जब श्रद्धालु संपूर्ण भक्ति-भावसे भगवानकी आराधना करता है तब नित्य सुख व समृद्धि प्रदान करनेवाले इष्ट देवताकी कृपादृष्टि सदैव उसपर बनी रहती है । इस दिन पूर्वजोंको गति दिलाने हेतु तिलतर्पण किया जाता है ।

४. त्यौहार मनानेकी पद्धति

स्नानदानादि धर्मकृत्य : किसी भी कालखंडका प्रारंभदिन भारतीयोंको सदैव पवित्र प्रतीत होता है । इस तिथिपर स्नान, दान इत्यादि धर्मकृत्य बताए गए हैं । सबसे पहले पवित्र जलसे स्नान करके श्रीविष्णुकी पूजा की जाती है । होम-हवन, नामजप एवं दान करनेके उपरांत पितृतर्पण करते हैं । ऐसी मान्यता है कि, इस दिन अपिंडक श्राद्ध करना चाहिए यानी बिना पिंड दिए विधिपूर्वक ब्राह्मणभोजन करवाएं और यदि यह संभव न हो, तो कमसे कम तिल तर्पण करें । दानमें कलश, पंखा, खडाऊं, सत्तू, ककडी, खरबूजा आदि फल, शक्कर आदि दान करनेकी भी प्रथा है । इस दिन धूपसे सुरक्षा करनेवाली वस्तुएं जैसे छाता इत्यादि भी दान करनी चाहिए ।

हलदी-कुमकुम : स्त्रियोंके लिए यह दिन महत्त्वपूर्ण होता है । चैत्र मासमें स्थापित चैत्रगौरीका इस दिन विसर्जन किया जाता है । इस निमित्त वे हलदी-कुमकुम भी करती हैं ।’ (हलदी-कुमकुम एक प्रथा है, जिसमें सुहागिन नारी अपने घरमें अन्य सुहागिनोंको बुलाकर, उन्होंने देवीका रूप मानकर, उन्हें हलदी-कुमकम लगाकर व प्रणाम कर कोई भेंटवस्तु देती है ।)

५. पूर्वजोंको गति मिले, इस हेतु अक्षय तृतीयापर तिलतर्पण आवश्यक

५.१ तिलतर्पणका अर्थ व भावार्थ

तिलतर्पणमें देवता व पूर्वजोंको तिल तथा जल अर्पित किया जाता है । तिल सात्त्विकताका प्रतीक है और जल शुद्ध भावका प्रतीक है । तिलतर्पणका अर्थ है, देवताको तिलके रूपमें कृतज्ञता तथा शरणागत भाव अर्पण करना । भगवानके पास तो सबकुछ है । अत: हम उसे क्या अर्पण कर सकते हैं ? ‘मैं ईश्वरको कुछ अर्पण कर रहा हूं’ यह अहं भी नहीं होना चाहिए । अत: तिल अर्पण करते समय भाव रखें कि, ‘ईश्वर ही मुझसे सब करवा रहे हैं’। इससे तिलतर्पणके समय साधकका अहं नहीं बढेगा व उसके भावमें वृद्धि होगी ।

५.२ पूर्वजोंको तिलतर्पण करनेका महत्त्व व पद्धति

महत्त्व : अक्षय तृतीयापर उच्च लोकोंसे सात्त्विकता प्रक्षेपित होती है । इसीलिए इस दिन भुवलोकके अनेक जीव सात्त्विकता ग्रहण करनके लिए पृथ्वीके समीप आते हैं । भुवलोकके ये अधिकांश जीव पूर्वज ही होते हैं । इस प्रकार उनके पृथ्वीके निकट आनेसे अक्षय तृतीयापर मनुष्यको अधिक कष्ट होनेकी संभावना होती है । पूर्वजोंका ऋण भी (हमपर) मनुष्यपर अधिक होता है । अत: पूर्वजोंको गति प्राप्त हो, इसलिए अक्षय तृतीयापर तिलतर्पण आवश्यक है ।

पद्धति : सर्वप्रथम तिलमें श्रीविष्णु व ब्रह्माके तत्त्व आने हेतु देवताओंसे प्रार्थना करें । फिर एक पात्रमें पूर्वजोंका आवाहन करें । तदुपरांत भाव रखें कि, ‘पूर्वज सूक्ष्मरूपसे पधारे हैं तथा हम उनके चरणोंमें तिल एवं जल अर्पण कर रहे हैं ‘। दो मिनट बाद देवताओंके तत्त्वोंसे अभिमंत्रित अक्षत पूर्वजोंको अर्पण करें । सात्त्विक बने तिल हाथमें लेकर उन्हें धीरे-धीरे पात्रमें जलके साथ छोडे । पूर्वजोंको गति प्रदान करने हेतु दत्त, ब्रह्मा अथवा श्रीविष्णुसे प्रार्थना करें । 

परिणाम : पात्रमें सूक्ष्मसे पूर्वज पधारते हैं । तिलमें सात्त्विकता ग्रहण करने व रज-तम नष्ट करनेकी क्षमता अधिक होती है ।  जब व्यक्ति भक्तिभावसे तिलतर्पण करता है, तो पात्रमें सूक्ष्मसे पधारे पूर्वजोंके प्रतीकात्मक सूक्ष्म-देहपर विद्यमान काला आवरण दूर होता है । उनके सूक्ष्म-देहकी सात्त्विकता बढती है और अगले लोकमें जानेके लिए आवश्यक उर्जा उन्हें प्राप्त होती है । जिससे पितृदोष ५ से १० प्रतिशत कम होता है । प्रथम देवताओंको तिल अर्पण करनेसे साधकको सात्त्विकता प्राप्त होती है । यदि उसका भाव ४० प्रतिशतसे अधिक हो, तो उसके आसपास भगवान सूक्ष्मसे संरक्षककवच निर्माण करते हैं । परिणामस्वरूप पूर्वजोंको तिलतर्पण करते समय साधकको कष्ट नहीं होते ।

६. देवता व पूर्वजोंको किए तिलतर्पणके कारण साधकपर शेष देवऋण तथा पितरऋण कुछ मात्रामें कम होता है

अक्षय तृतीयापर सात्त्विकता बढनेसे आनंदकी मात्रा सामान्यत: ६० से ७० प्रतिशत होती है व पूर्वजोंकी अतृप्तिके कारण होनेवाले कष्टोंकी मात्रा ३० से ४० प्रतिशत होती है । अत: अक्षय तृतीयापर देवता व पूर्वजोंको किए तिलतर्पणके कारण साधकपर शेष देवऋण तथा पितरऋण भी कुछ मात्रामें कम होता है । साधकद्वारा प्रामाणिकतासे, मनसे तथा भावपूर्ण पद्धतिसे तिलतर्पण करनेपर देवता तथा पूर्वज उसपर प्रसन्न होते हैं । उसकी साधना अच्छी हो और सांसारिकी अडचनें दूर हों, ऐसा वे उसे आशीर्वाद देते हैं ।  अक्षय तृतीयापर सात्त्विकता प्रक्षेपित होनेसे अच्छा लगनेकी मात्रा सामान्यत: ६० से ७० प्रतिशत होती है व पूर्वजोंके कष्टकी मात्रा ३० से ४० प्रतिशत होती है ।

७. अक्षय तृतीयापर दान देनेका महत्त्व

दान देनेसे पुण्य मिलता है । इस दिन दिए दानका कभी क्षय नहीं होता । जब पुन्योंकी मात्रा बढ जाती है तब उस व्याक्तिद्वारा पिछले जीवन अथवा जन्मोंमें हुए पापकर्म क्षीण होते हैं और उसके पुण्यका संचय बढता है । उसे स्वर्गकी प्राप्ति भी हो सकती है; परंतु खरे साधक को पुण्य संचित कर स्वर्ग पाने में कोई रुचि नहीं होती है । उनका एकमेव ध्येय ईश्वरप्राप्ति करनी होती है । इसलिए साधकोंको सत्पात्रको ही दान देना चाहिए । यहां सत्पात्रको दान देने का अर्थ है, अध्यात्मके प्रसारके साथ-साथ राष्ट्र और धर्मके लिए होनेवाले सत्के कार्यमें दान देना । सत्पात्रको दान देनेसे दान करनेवालेको पुण्य प्राप्त होनेकी बजाय दानका कर्म, ‘अकर्म-कर्म’ हो जाता है । अत: उसकी आध्यात्मिक उन्नति होती है । आध्यात्मिक उन्नति होनेपर साधक स्वर्गलोकमें जानेकी बजाय उच्च लोकोंमें जाते हैं ।

८. अक्षयतृतीयापर किए जानेवाले तिलतर्पणकी मानसविधि करते समय दम घुटना व कोई गला दबा रहा है, ऐसा अनुभव होना

 ‘१९.४.२००७ को प्रात: ९ बजे मैं रेलगाडीमें यात्रा करते समय ‘दैनिक सनातन प्रभात’का ‘अक्षय-तृतीया विशेषांक’ पढ रहा था । तदुपरांत मैं गाडीमें बैठकर उसमें बताए अनुसार अक्षय तृतीयापर की जानेवाली तिलतर्पणकी मानस विधि करने लगा । तिलतर्पण विधिकी सर्व कृतियां मेरेद्वारा भावपूर्ण हो रही थीं । तदपुरांत जब मैं तर्पण हेतु पितरोंका आवाहन करने लगा तो २ मिनटके लिए मेरा दम घुटने लगा व कोई मेरा गला दबा रहा है, ऐसा लगा । मैंने तत्काल श्रीकृष्णसे प्रार्थना कर मुझे कष्ट देनेवाले मांत्रिकपर शस्त्र छोडनेके लिए कहा । उस समय ऐसा अनुभव हुआ कि सुनहरी किरणोंके समान कुछ मेरी गर्दनमें प्रविष्ट हुआ और मेरा कष्ट थम गया । तदुपरांत मैंने शेष विधियां की । सर्व कृति करनेके उपरांत ऐसा लगा कि मेरे आसपास आया काला आवरण दूर हो गया है ।’  – श्री. नंदकिशोर नारकर, कळवा, ठाणे. (संदर्भ : सनातनका ग्रंथ – ‘त्योहार धार्मिक उत्सव व व्रत’)


अधिक जानकारी हेतु अवश्य पढे सनातनका ग्रंथ – त्योहार धार्मिक उत्सव व व्रत

सनातन संस्था विश्वभरमें धर्मजागृति व धर्मप्रसारका कार्य करती है । इसीके अंतर्गत इस लेखमें ‘हिंदू संस्कृतिके प्रतीक नमस्कार संबंधी जानकारी, नमस्कारकी योग्य पद्धति तथा नमस्कार करनेपर होनेवाले लाभ’ इस विषयपर अंशमात्र जानकारी प्रस्तुत की गई है । अधिक जानकारीके लिए संपर्क करें :  sanatan@sanatan.org

Tweet about this on TwitterShare on FacebookShare on Google+Email this to someonePrint this page

About Us

'Hindu Janajagruti Samiti' (HJS) was established on 7th October 2002 for Education for Dharma, Awakening of Dharma, Protection of Dharma, Protection of the Nation and Uniting Hindus.

Join Us

Newsletter

Contact

contact@hindujagruti.org

Back to Top

75 queries in 0.380 seconds.